Azadi ke baad ka bharat by bipin chandra

Azadi ke baad ka bharat by bipin chandra PDF is thoroughly revised, enlarged, and updated. No wonder this book received an awesome response from the readers! This books has a seprate fan base for hindi medium UPSC aspirants.

This Book has always had a uniqueness in it. That’s the rationale it achieved a standing no other book has ever achieved with reference to UPSC Civil Services Exam preparation.

This book probably would be the primary standard text-book most of the aspirants start their IAS preparation with.

Azadi ke baad ka bharat by Bipin Chandra –
कैसे डाउनलोड करें?

Read More- M Laxmikant Indian Polity in Hindi

1907 में कांग्रेस विभाजित हुई वह बंगाल में क्रांतिकारी आतंकवाद का उदय हुआ 1907 तक नरपंथी राष्ट्रवादियों की ऐतिहासिक भूमिका समाप्त हो गई नरपंथी आंदोलन की आम जनता में ना आस्था थी ना ही पहुंच यह कारण था कि स्वदेशी आंदोलन व बहिष्कार आंदोलन का नेतृत्व उनके हाथ में नहीं था।

उनका विश्वास था कि वह हुकूमत पर दबाव डालकर राजनीतिक व आर्थिक सुधार लागू करवा लेंगे नरपंथी आंदोलनकारियों की असफलता का मुख्य कारण था कि राजनीतिक घटनाओं के अनुरूप हुए अपनी राजनीति में आवश्यक बदलाव नहीं ला पाए। 

Read More – Bhartiya Arthvyavastha by Ramesh Singh in Hindi

यह युवा पीढ़ी को अपने साथ नहीं ले सके शुरू में कांग्रेस के प्रति अंग्रेजों का रवैया नरम था पर जैसे ही कांग्रेस का दायरा बड़ा हुए इसके आलोचक हो गए राष्ट्रवादीओं को “गद्दार” ” ब्राम्हण” और कांग्रेस को राजद्रोह का कारबाना बताया गया यह कुर्सी ना पाने में विश्व कुछ लोग तथा कुछ असंतुष्ट वकील हैं जो अपने सिवा किसी और का प्रतिनिधित्व नहीं करते कांग्रेसी के बारे में।।

दोस्तों, Azadi ke baad ka bharat by Bipin Chandra Download कर सकते है, बिपिन चन्द्रा आधुनिक भारक का इतिहास हिन्दी मे नीचे उपलब्ध है |

AZADI KE BAAD KA BHARAT BY BIPIN CHANDRA PDF

Azadi ke baad ka bharat by Bipin Chandra PDF

This Post Has One Comment

  1. Neelam

    Nice book

Leave a Reply